हाइकु



हाइकु

रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

1-परखना है
पावनता किसी की
 पूछो मन से ।

2-ये प्यार कभी
परखा नहीं जाता
सिर्फ़ तन से ।

3- हमे  चाहिए
जीवन में केवल
सुख तुम्हारा ।




Share your views...

1 Respones to "हाइकु"

रौशन जसवाल विक्षिप्त ने कहा…

सुन्‍दर


17 नवंबर 2010 को 9:44 pm

एक टिप्पणी भेजें

 

शैल सूत्र स्‍नेही

Our Partners

कुल पेज दृश्य

© 2010 शैल सूत्र All Rights Reserved Thesis WordPress Theme Converted into Blogger Template by Hack Tutors.info